ads

Sahir Ludhianvi ने अपनी शायरी में दी महिलाओं के जज्बात को अहमियत, रचे खूबसूरत गीत

-दिनेश ठाकुर

जज्बात और अल्फाज के जादूगर साहिर लुधियानवी ( Sahir Ludhianvi ) का 8 मार्च से जन्म शताब्दी साल शुरू हुआ है। अगर 25 अक्टूबर, 1980 को दिल के दौरे ने उनकी जिंदगी पर पूर्णविराम नहीं लगाया होता, तो 8 मार्च को वह उम्र का शतक पूरा करते। साहिर अरबी जुबान का लफ्ज है, जिसका मतलब है- जादूगर। इत्तफाक देखिए कि अपनी शायरी में महिलाओं के जज्बात को अहमियत देने वाले साहिर की सालगिरह की तारीख वही है, जो अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस ( Women's Day ) की है। वह साहिर ही थे, जिन्होंने 'औरत ने जनम दिया मर्दों को/ मर्दों ने उसे बाजार दिया' में महिलाओं की पीड़ा को आवाज दी। 'कौन आया कि निगाहों में चमक जाग उठी' में उनकी उमंगों की सजावट की। 'मेरे घर आई एक नन्ही परी' में उनका खैरमक्दम (स्वागत) किया। 'बाबुल की दुआएं लेती जा' के जरिए उन पर आंसुओं में भीगी दुआएं बरसाईं।

यह भी पढ़ें :सोनू सूद ने तैयार किया ब्लड बैंक ऐप, सीधे डोनर से जुड़ पाएंगे मरीज, ऐसे काम करेगा ऐप

तुम चली जाओगी, परछाइयां रह जाएंगी...
साहिर की शायरी में महिलाओं का पक्ष इसलिए बार-बार बुलंद हुआ कि वह अपनी मां सरदार बेगम को बेपनाह चाहते थे। मैक्सिम गोर्की के क्लासिक उपन्यास 'मदर' के नायक पावेल की जिंदगी के हर पहलू में उसकी मां घुली-मिली महसूस होती है। उसी तरह साहिर की शख्सियत में रह-रहकर उनकी मां की परछाइयां उभरती हैं। उनका एक गीत है- 'तुम चली जाओगी, परछाइयां रह जाएंगी' (शगुन)। शायद यहां भी उनका इशारा अपनी मां की परछाइयों की तरफ था। साहिर के पिता लुधियाना के अय्याश जागीरदार थे। साहिर के बचपन में जुल्मों से परेशान होकर सरदार बेगम पति से अलग हो गई थीं। गुजर-बसर के लिए मां के संघर्ष की परछाइयां हमेशा साहिर के साथ रहीं। मुम्बई में उनके आशियाने का नाम 'परछाइयां' था। मां के इंतकाल के बाद साहिर टूट गए। चार साल बाद उन्हें मां की कब्र के पास दफनाया गया।

यह भी पढ़ें :'साइना' के पोस्टर पर परिणीति हुईं ट्रोल, लोग बोले- ये तो सानिया मिर्जा के लिए सही था

अपनी शर्तों पर रचे बेशुमार नायाब गीत
चंद हस्तियां हैं, जिन्हें सिनेमा और साहित्य के बीच पुख्ता पुल कहा जा सकता है। इनमें साहिर शामिल हैं। फिल्मों से जुडऩे से पहले वह तरक्कीपसंद शायर के तौर पर उभर चुके थे। फिल्मों में उन्होंने अपनी शर्तों पर ऐसे-ऐसे नायाब गीत रचे, जो सिर्फ वही रच सकते थे। 'ठंडी हवाएं, लहराके आएं', 'नीले गगन के तले', 'चलो इक बार फिर से अजनबी बन जाएं हम दोनों','तोरा मन दर्पण कहलाए', 'मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया', 'संसार की हर शै का इतना ही फसाना है', 'वो सुबह कभी तो आएगी', 'मन रे तू काहे न धीर धरे', 'पांव छू लेने दो फूलों को इनायत होगी', 'पोंछकर अश्क अपनी आंखों से मुस्कुराओ तो कोई बात बने', 'किसी पत्थर की मूरत से', 'तुम अपना रंजो-गम अपनी परेशानी मुझे दे दो', 'कभी-कभी मेरे दिल में' जैसी बेशुमार रचनाएं हिन्दी सिनेमा का सरमाया (पूंजी) हैं।


जिन्हें नाज है हिन्द पर वो कहां हैं..
महिलाओं की दशा पर 'चकले' साहिर की खासी मकबूल नज्म है, जिसे गुरुदत्त की 'प्यासा' में शामिल किया गया। यह तवील नज्म यूं शुरू होती है, 'ये कूचे, ये नीलामघर दिलकशी के/ ये लुटते हुए कारवां जिंदगी के/ कहां हैं कहां हैं मुहाफिज (रक्षक) खुदी (गर्व) के/ जिन्हें नाज है हिन्द पर वो कहां हैं।' इस नज्म के बारे में साहिर के समकालीन शायर कैफी आजमी ने कहा था, 'इसमें साहिर की गैरत, उनकी रूह, उनके एहसास की तिलमिलाहट बुलंदी के इंतिहाई नुक्ते (चरम बिन्दु) पर नजर आती है। मैं यह नज्म पढ़ता हूं तो रौंगटे खड़े हो जाते हैं। साहिर ने जाने किस एहसास की किस शिद्दत से यह नज्म लिखी। उनके लहजे की मख्सूस अफसुर्दगी (विशिष्ट उदासी) यहां बेपनाह बहाव में तब्दील हो गई है।'



Source Sahir Ludhianvi ने अपनी शायरी में दी महिलाओं के जज्बात को अहमियत, रचे खूबसूरत गीत
https://ift.tt/38gBy7B

Post a comment

0 Comments