ads

भारत में हुए दो टेस्ट में स्पॉट फिक्सिंग को आईसीसी ने नकारा, कहा-पर्याप्त सबूत नहीं

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने भारत में 2016 में इंग्लैंड और 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए टेस्ट मैच में स्पॉट फिक्सिंग की कोशिश की बात को खारिज करते हुए इस मामले में क्लीन चिट दी है। आईसीसी ने कहा कि टीवी चैनल के आरोप मौलिक रूप से कमजोर है। इंग्लैंड के खिलाफ मैच चेन्नई में जबकि ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध मुकाबला रांची में हुआ था। आईसीसी ने एक बयान जारी कर कहा कि आईसीसी ने अल जजीरा के 27 मई 2018 के दिखाए प्रोग्राम ‘क्रिकेट मैच फिक्सर्स’ के बाद की गई जांच को बंद कर दिया है। पर्याप्त विश्वसनीय साक्ष्य नहीं होने के कारण किसी पर भी भ्रष्टाचार रोधी की संहिता के तहत आरोप नहीं लगते हैं।”

विशेषज्ञों को कुछ गलत नहीं दिखा
आईसीसी ने बताया कि उसने इस मामले के लिए चार बेटिंग और क्रिकेट विशेषज्ञ बुलाए थे लेकिन इन्हें इसमें कुछ गलत नहीं दिखा। बयान में कहा, “प्रोग्राम में दिखाए गए पैसेज की जांच के लिए आईसीसी ने चार स्वतंत्र बेटिंग और क्रिकेट विशेषज्ञ बुलाए थे। सभी चार लोग इस नतीजे पर पहुंचे कि प्रोग्राम में दिखाए पहलु के विश्वसनीय साक्ष्य नहीं मिले हैं। 2018 की डॉक्यूमेंट्री में दिखाया गया था कि इंग्लिश और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों का समूह कथित रूप से स्पॉट फिक्सिंग में शामिल था।

यह भी पढ़ें— पूर्व भारतीय ऑलराउंडर और BCCI के रेफरी राजेन्द्र जडेजा का कोरोना से निधन

ईसीबी ने भी आरोपों को खारिज कर दिया था
साथ ही आईसीसी ने कहा कि प्रोग्राम में दिखाए गए सभी पांच प्रतिभागियों का आईसीसी की इंटिग्रिटी यूनिट ने इंटरव्यू लिया था और उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं मिले। इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने भी इससे पहले इन आरोपों को खारिज करते हुए कहा था कि रिपोर्टिंग के सबूत कमजोर हैं। हालांकि आईसीसी के महासचिव (इंटिग्रिटी) एलेक्स मार्शल ने कहा था कि आईसीसी इन आरोपों की जांच करेगी।

यह भी पढ़ें—धोनी के टिप्स से मिली महिला क्रिकेटर इंद्राणी को सफलता, अब इंग्लैंड दौरे पर आजमाएंगी उनके टिप्स

पर्याप्त सबूत नहीं
आईसीसी के जनरल मैनेजर एलेक्स मार्शल ने एक बयान में कहा कि वे क्रिकेट के भीतर मौजूदा भ्रष्ट गतिविधियों की रिपोर्टिंग का स्वागत करते हैं। साथ ही उनका कहना है कि हमारे खेल में इस तरह के आचरण की कोई जगह नहीं है। मार्शल ने कहा कि लेकिन यह भी साबित करना होता है कि जिनके खिलाफ आरोप लगाए हैं, उनके खिलाफ सबूत भी पर्याप्त हों। इस कार्यक्रम में किए गए दावे असंभव हैं और इसकी विश्वसनीयता भी नहीं है। चारों स्वतंत्र निदेशक ने इसकी पुष्टि भी की है।



Source Patrika : India's Leading Hindi News Portal
https://ift.tt/3orrVJS

Post a Comment

0 Comments