ads

CSK के बैटिंग कोच माइक हसी ने कहा-टी20 वर्ल्ड कप भारत में खेलना मुश्किल होगा

पूर्व आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज और आईपीएल फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग्स के बल्लेबाजी कोच माइक हसी कोरोना से ठीक होकर स्वदेश लौट गए हैं। स्वदेश पहुंचने के बाद उन्होंने इस साल भारत में होने वाले टी20 विश्व कप को लेकर अपनी राय व्यक्त की। माइक हसी का कहना है कि टी20 विश्व कप को भारत में आयोजित करना मुश्किल होगा क्योंकि महामारी के इस दौर में कई क्रिकेट बोर्ड अपनी टीमों को भारत नहीं भेजना चाहेगी। क्रिकइंफो की रिपोर्ट के अनुसार, माइक हसी का कहना है कि उनके हिसाब से भारत में टूनार्मेंट खेल पाना काफी मुश्किल होगा।

अलग—अलग शहरों में खेलना जेखिम भरा
साथ ही माइक हसी ने कहा कि हम आईपीएल की आठ टीमों की बात कर रहे हैं और शायद टी20 विश्व कप में भी विदेशों से इतनी ही टीमें होंगी। मेजबान शहर अधिक होंगे। ऐसे में हसी का कहना है कि उन्होंने पहले ही कहा कि अलग अलग शहरों में खेलने से जोखिम बढेगा। बता दें कि टी20 विश्व कप का आयोजन अक्टूबर नवंबर में भारत में होना है, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के कारण हालात बहुत खराब हो गए हैं और इसी कारण आईपीएल 2021 को भी स्थगित किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें— टी20 वर्ल्ड कप में टीमों की संख्या 20 करने पर विचार कर रहा आईसीसी: रिपोर्ट

mike_hussey_2.png

यूएई में कराया जा सकता है टूर्नामेंट
बता दें कि हसी आईपीएल के समय भारत में ही थे और बायो बबल में रहने के बावजूद कोरोना पॉजि़टिव पाए गए थे, लेकिन अब वह स्वदेश लौट चुके हैं। हसी ने आगे कहा, उन्हें काफी बड़ी आपात योजना बनानी होगी। शायद यूएई या कहीं और टूनार्मेंट कराया जा सकता है। दुनिया भर के कई क्रिकेट बोर्ड भारत में फिर टूर्नामेंट खेलने के लिए अपनी टीमें भेजने को लेकर नर्वस होंगे।

यह भी पढ़ें— कोरोना से बिगड़ते हालात के बीच भारत की जगह यूएई में हो सकता है टी20 वर्ल्ड कप का आयोजन!

दिल्ली शिफ्ट होने के दौरान टूटा आईपीएल का सुरक्षा चक्र
इसके साथ ही माइक हसी ने यह भी बताया कि आईपीएल 2021 के बायो बबल के सुरक्षा चक्र में कहां सेंध लगी। हसी का कहना है कि मुंबई के बायो बबल में वह सुरक्षित महसूस कर रहे थे। इसके बाद जब मैच के लिए दिल्ली शिफ्ट हुए तो उन्हें और बाकियों को लगा कि एयरपोर्ट सिक्योरिटी, सामान लाने-ले जाने वाले और पायलट तो बायो बबल का हिस्सा नहीं थे। इसके चलते सब लोग एक्सपोज हो गए। हसी का कहा कि इसलिए वहां पर खतरा था और मैदान पर भी ऐसा ही था। वहां ट्रेनिंग के दौरान ग्राउंड स्टाफ भी मौजूद था मुंबई का बबल छोड़ने के बाद निश्चित रूप से जोखिम में थे।



Source Patrika : India's Leading Hindi News Portal
https://ift.tt/3oz3D0E

Post a Comment

0 Comments