ads

WTC Final: न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ने कहा- इंग्लैंड की परिस्थितियों के कारण कोहली को करना पड़ सकता है संघर्ष

टीम इंडिया इस समय इंग्लैंड दौरे पर है। यहां टीम इंडिया को साउथम्पटन में न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 जून से वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल खेलना है। टीम इंडिया ने इंग्लैंड में मुकाबले की तैयारी भी शुरू कर दी है। टीम इंडिया इस मुकाबले को जीतने में अपना पूरा दमखम लगा देगी। इस बीच न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ग्लेन टर्नर का कहना है कि इस मुकाबले में इंग्लैंड में परिस्थितियां महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी। टर्नर का कहना है कि अगर परिस्थितियां स्विंग और सीम के अनुकूल होती हैं, तो टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को संघर्ष करना पड़ सकता है।

बल्लेबाजों को करना पड़ सकता है संघर्ष
ग्लेन टर्नर ने एक अंग्रेजी अखबार से बात करते हुए कहा कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल में अगर पिच और परिस्थितियां तेज गेंदबाजों और स्विंग के पक्ष में रहती हैं, तो बल्लेबाजों को संघर्ष करना पड़ सकता है। साथ ही उन्होंने कहा कि वह इस बारे में अटकलें नहीं लगाना चाहते कि परिस्थितियों को लेकर कोहली सतर्क हैं या नहीं, लेकिन अगर पिच और परिस्थितियां तेज गेंदबाजों और स्विंग के पक्ष में रहती हैं, तो उन्हें अन्य बल्लेबाजों की ही तरह संघर्ष करना पड़ सकता है। जैसा कि न्यूजीलैंड में हुआ था।'

यह भी पढ़ें— बांग्लदेशी क्रिकेटर शहादत हुसैन पर लगा था 5 साल का बैन, मां के इलाज के लिए 18 महीने बाद ही की वापसी

परिस्थितियां अहम होने वाली हैं
साथ ही उन्होंने कहा कि एक बार फिर से मैदान पर परिस्थितियां अहम होने वाली हैं। मुझे लगता है कि यह कहना सही होगा कि घरेलू परिस्थितियां, जहां बल्लेबाज सीखते हैं, एक खिलाड़ी की तकनीक और कौशल को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाते हैं।
पूर्व कप्तान ने कहा,'हालांकि, ऐसा लगता है कि हाल के दिनों में भारत में पिचें सीम गेंदबाजी में मदद कर रही हैं, फिर भी उनकी तुलना न्यूजीलैंड की स्थितियों से नहीं की जा सकती है। जब भारत ने आखिरी बार न्यूजीलैंड का दौरा किया था, तब भी परिस्थितियां अहम रही थीं।' भारत ने पिछली बार जब 2020 में न्यूजीलैंड का दौरा किया था उसे दोनों टेस्ट मैचों में हार का सामना करना पड़ा था। उस सीरीज में कोहली भी बल्ले से संघर्ष करते हुए दिखे थे। उन्होंने चार पारियों में केवल 38 रन ही बनाए थे।



Source Patrika : India's Leading Hindi News Portal
https://ift.tt/3xaanFB

Post a Comment

0 Comments