ads

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में इन 4 भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन तय करेगा टेस्ट क्रिकेट का भविष्य

 

नई दिल्ली। आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल हारने के बाद कई खिलाड़ियों के लिए इंग्लैंड दौरा काफी अहम रहने वाला है। क्योंकि इंग्लैंड के खिलाफ खेली जाने वाली 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में भारतीय खिलाड़ियों (Team India) के प्रदर्शन पर सभी की नजरें होंगी। आगामी 4 अगस्त से भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज का आगाज होगा। डब्ल्यूटीसी में मिली हार को भुलाने के लिए यह टेस्ट सीरीज भारतीय टीम के लिए काफी अहम रहेगी। अगर इस सीरीज में भी उन खिलाड़ियों का प्रदर्शन संतोषजनक नहीं रहा जो डब्ल्यूटीसी में फ्लॉप रहे थे तो उनकी टीम इंडिया से छुट्टी होना लगभग तय माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें:—धोनी के रिटायरमेंट के करीब 10 महीने बाद भुवनेश्वर ने उस दिन शेयर की गई तस्वीर का राज बताया

खासकर इन 4 खिलाड़ियों का प्रदर्शन तय करेगा उनका भविष्य

उमेश यादव
टीम इंडिया के तेज गेंदबाज उमेश यादव पिछले काफी से टीम इंडिया के लिए टी20 और वनडे मैच नहीं खेल पा रहे हैं। उन्हें सिर्फ टेस्ट टीम में मौका दिया जा रहा है और वह लगातार प्लेइंग इलेवन में भी जगह नहीं बना पा रहे हैं। ऐसे में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज उनके टेस्ट कॅरियर के लिए अहम साबित हो सकती है। अगर उमेश यादव टीम मैनेजमेंट की उम्मीदों पर खरा उतरे तो सकता है टेस्ट टीम में बने रहें, अगर प्रदर्शन खराब रहा तो यह उनकी आखिरी टेस्ट सीरीज हो सकती है।

रिद्धिमान साहा
महेंद्र सिंह धोनी के रिटायरमेंट के बाद से टेस्ट टीम में रिद्धिमान साहा विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। लेकिन पिछली कुछ सीरीज से उन्हें प्लेइंग इलेवन में मौका नहीं मिल रहा है। क्योंकि ऋषभ पंत उन पर भारी पड़ते नजर आ रहे हैं। इंग्लैंड दौरे पर डब्ल्यूटीसी के फाइनल में भी उन्हें मौका नहीं मिला है। अब तक वह टीम इंडिया के लिए 38 टेस्ट मैच खेल चुके हैं। साहा 36 साल के हो चुके हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि इंग्लैंड दौरा उनका आखिरी दौरा साबित हो सकता है।

चेतेश्वर पुजारा
इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) का प्रदर्शन तय करेगा कि उनका टेस्ट क्रिकेट का भविष्य क्या होगा। डब्ल्यूटीसी के उनके प्रदर्शन को देखकर तो ऐसा लगता है कि उनके कॅरियर की अब उल्टी गिनती शुरू हो गई है। विरोधी टीम पर हावी होने के लिए डिफेंसिव होने की बजाय उन्हें रन बनाने की जरूरत है, लेकिन पुजारा की बल्लेबाजी में कोई दम नजर नहीं आ रहा है। टॉप ऑर्डर के फ्लॉप होने पर मिडिल ऑर्डर पर जिम्मेदारी आन पड़ती और टीम इंडिया के बल्लेबाजी इस दवाब को झेल नहीं पा रहे हैं। लगातार चेतेश्वर पुजारा की फॉर्म को लेकर सवाल उठ रहे हैं। उन्होंने आखिरी बार 2018 में शतक लगाया था। इसके बाद उनके बल्ले से एक भी शतक नहीं निकला है जो टीम इंडिया के लिए चिंता की बात है।

यह खबर भी पढ़ें:—कोहली सालभर में कमाते हैं करीब 200 करोड़, बॉक्सर मेवेदर ने एक दिन में कमाए थे 743 करोड़

शुभमन गिल
शुभमन गिल को टेस्ट टीम में कई बार ओपनिंग का मौका मिल चुका है, लेकिन वह मैनेजमेंट की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पा रहे हैं। डब्ल्यूटीसी के फाइनल में उन्होंने पहली पारी में 28 तो दूसरी पारी में केवल 8 रन बनाए थे। जबकि मयंक अग्रवाल जैसा धाकड़ बल्लेबाज बाहर बैठा हुआ है। इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में अगर शुभमन का बल्ला नहीं चला तो उनका टीम से बाहर होना तय माना जा रहा है। शुभमन ने अपने टेस्ट कॅरियर में अब तक 8 मैचों में 414 रन बनाए हैं। इस दौरान उनका औसत 31.84 रहा है।



Source Patrika : India's Leading Hindi News Portal
https://ift.tt/3Ai8d9i

Post a Comment

0 Comments