ads

WI vs PAK: मैच में शतक जड़ पाकिस्तानी बल्लेबाज फवाद ने बनाया रिकॉर्ड, गावस्कर, गांगुली और पुजारा जैसे दिग्गजों को भी छोड़ा पीछे

पाकिस्तान और वेस्टइंडीज के बीच जमैका के सबीना पार्क में दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेली जा रही है। दूसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन के मुकाबले में पाकिस्तान के बल्लेबाज फवाद आजम ने बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए अच्छे—अच्छे दिग्गजों को पीछे छोड़ दिया। मैच के तीसरे दिन जब पाकिस्तान का टॉप ऑर्डर बिखर गया तो फवाद आजम ने इस मुश्किल घड़ी में पाकिस्तान की पारी को संभाला और अंत तक डटे रहे। वेस्टइंडीज का कोई भी गेंदबाज फवाद को आउट नहीं कर सका। फवाद ने नाबाद 124 रन बनाए। इस मैच में शतक लगाने के साथ ही फवाद ने चेतेश्वर पुजारा, सौरव गांगुली और सुनील गावस्कर जैसे भारतीय दिग्गजों को भी पीछे छोड़ दिया है।

इन दिग्गजों को भी पीछे छोड़ा
फवाद ने वेस्टइंडीज के खिलाफ तीसरे मैच में खेलते हुए शतक जड़ा। टेस्ट कॅरियर में यह फवाद का 5वां शतक है। उन्होंने 13 टेस्ट मैचों की 22 पारियों में 5 शतक लगाए। ऐसे में उन्होंने सबसे कम पारियां खेलकर पांच शतक जड़ने के मामले में भारत के सौरव गांगुली, सुनील गावस्कर और पुजारा तीनों को ही पछाड़ दिया। चेतेश्वर पुजारा ने अपने टेस्ट कॅरियर में 25 पारियां खेलकर पांच शतक लगाए। वहीं सौरव गांगुली ने 24 पारियों में और गावस्कर ने 25 पारियां खेलकर 5 शतक लगाए थे।

यह भी पढ़ें— मैच फीस को लेकर बोर्ड से नाराज हैं पाकिस्तान के टॉप क्रिकेटर्स, कप्तान बाबर आजम के सब्र का बांध भी टूटा

fawad_alam2.png

बाबर आजम ने 62 पारियों में जड़े 5 शतक
फवाद आलम ने टेस्ट क्रिकेट में 5वें शतक के साथ पाकिस्तान टीम के कप्तान बाबर आजम के टेस्ट क्रिकेट में लगाए शतकों के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। बाबर ने 35 टेस्ट मैचों की 62 पारियों में पांच शतक जड़े हैं। बाबर आजम की तुलना अक्सर टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के साथ की जाती है। वहीं बाबर आजम ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहली पारी में 75 रन की पारी खेली।

यह भी पढ़ें— IND vs ENG: तीसरे टेस्ट मैच में कोहली के नाम हो सकता है इंटरनेशनल क्रिकेट में 23,000 रन बनाने का रिकॉर्ड

10 साल बाद टीम में वापसी
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने 10 साल तक फवाद आजम को टेस्ट टीम में शामिल किया। इतने लंबे समय तक टीम में जगह न मिलने से कई खिलाड़ी तो निराश होकर सन्यास ले लते हैं। लेकिन फवाद ने उम्मीद नहीं छोड़ी। 10 साल बाद वापसी करते ही फवाद ने एक नया उदाहरण पेश कर दिया। वर्ष 2009 में श्रीलंका के खिलाफ शतक जड़कर टेस्‍ट क्रिकेट में डेब्‍यू करने वाले फवाद इसके बाद सिर्फ 2 और टेस्‍ट मैच खेल पाए। इसके बाद उन्हें टीम में नहीं लिया गया। पिछले वर्ष इंग्लैंड के खिलाफ साउथेम्पटन टेस्ट में उनकी टीम में वापसी हुई। वापसी के बाद फवाद पहले मैच में डक हो गए थे, लेकिन इसके बाद फवाद ने अपने बल्लेब से कोहराम मचा दिया।



Source Patrika : India's Leading Hindi News Portal
https://ift.tt/3y9ZYJS

Post a Comment

0 Comments