ads

हनुमा विहारी: बचपन में ही पिता को खो दिया,2018 में टीम इंडिया में जगह बनाया,न्यूज़ीलैंड के खिलाफ टेस्ट टीम में जगह नहीं मिलने से पूर्व दिग्गज हुए नाराज

श्रेयस अय्यर ने भारत के लिए साल 2017 में इंटरनेशनल डेब्यू किया था ।4 साल बाद आज उन्हें टेस्ट में डेब्यू का मौका मिला है। इससे पहले श्रेयस 22 वनडे और 32 T20 मुकाबला खेल चुके हैं। पूर्व महान क्रिकेटर और भारतीय टीम के कप्तान रहे सुनील गावस्कर ने उन्हें टेस्ट कैप पहनाया। टीम में उनका स्वागत जोरदार हुआ। अय्यर के इस उपलब्धि पर बहुत लोग बेहद खुश हैं। लेकिन भारत के पूर्व क्रिकेटर अजय जडेजा, लक्ष्मण और आकाश चोपड़ा का मानना है कि श्रेयस अय्यर के जगह हनुमा विहारी को टीम में स्थान मिलना चाहिए था। आज कमेंट्री के दौरान अकाश चोपड़ा ने कहा- हनुमा विहारी को आज टीम में होना चाहिए था। उन्होंने अब तक शानदार खेल दिखाया है। विराट कोहली, रोहित शर्मा, ऋषभ पंत जैसे सीनियर खिलाड़ी को आराम दिया गया है तो उनकी जगह तो टीम में बनती ही है ।इस जगह पर पहला हक हनुमा विहारी का था ।

संघर्ष से भरा रहा है विहारी का जीवन

बचपन में ही पिता का साया हनुमा विहारी के सर से उठ चुका था। इसके बाद उनकी मां ने उन्हें हर कदम पर सपोर्ट किया। घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन के बाद जब हनुमा विहारी को भारत से खेलने का मौका मिला तो उनके लिए यह एक भावुकता से भरा क्षण था। विहारी ने अपनी सफलता का श्रेय अपनी मां को दिया। विहारी ने कहा बिना मां के आशीर्वाद के मैं यहां तक नहीं पहुंच पाता। टीम इंडिया में शामिल होने से पहले हनुमा विहारी का फर्स्ट क्लास क्रिकेट कैरियर काफी लाजवाब रहा उन्होंने 63 फर्स्ट क्लास मैच खेले जिसकी 97 पारियों में लगभग 60 के औसत से 5142 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 15 शतक और 24 अर्धशतक लगाए। इंटरनेशनल कैरियर में हनुमा विहारी ने 12 मैच खेले हैं, जिसकी 21 इनिंग में दो बार नॉटआउट रहते हुए 624 रन बनाए ।उनका सर्वाधिक स्कोर 111 रहा है।



Source Patrika : India's Leading Hindi News Portal
https://ift.tt/32redQp

Post a Comment

0 Comments